रातो को उठ उठ कर / Raaton Ko Uth Uth Kar Lyrics in Hindi

Raaton Ko Uth Uth Kar Lyrics in Hindi – ‘Raaton Ko Uth Uth Kar’ is a new Hindi song sung by Gurdas Maan. Lyrics of Raaton Ko Uth Uth Kar song are written by Gurdas Maan. Music is given by Shyam Surender and label is Tips Official.


Song – Raaton Ko Uth Uthkar
Singer – Gurdas Maan
Lyrics – Gurdas Maan
Music – Shyam Surender
Label – Tips Official


Raaton Ko Uth Uth Kar Lyrics in Hindi

रातो को उठ उठ कर जिनके लिए रोते है
रातो को उठ उठ कर जिनके लिए रोते है
अजी रातो को उठ उठ कर जिनके लिए रोते है
वो अपने मकानों में आराम से सोते है
वो अपने मकानों में आराम से सोते है

रातो को उठ उठ कर जिनके लिए रोते है
वो अपने मकानों में आराम से सोते है
वो अपने मकानों में आराम से सोते है

(संगीत)

कुछ लोग ज़माने में ऐसे भी तो होते है
कुछ लोग ज़माने में ऐसे भी तो होते है
कुछ लोग ज़माने में ऐसे भी तो होते है
महफ़िल में तो हँसते है
महफ़िल में तो हँसते है, तन्हाई में रोते है
महफ़िल में तो हँसते है, तन्हाई में रोते है

कुछ लोग ज़माने में ऐसे भी तो होते है
महफ़िल में तो हँसते है, तन्हाई में रोते है
महफ़िल में तो हँसते है, तन्हाई में रोते है

(संगीत)

दीवानो की दुनिया का आलम ही निराला है
दीवानो की दुनिया का आलम ही निराला है
दीवानो की दुनिया का आलम ही निराला है
हँसते है तो हँसते है
हँसते है तो हँसते है रोते है तो रोते है
हँसते है तो हँसते है रोते है तो रोते है

दीवानो की दुनिया का आलम ही निराला है
हँसते है तो हँसते है रोते है तो रोते है
हँसते है तो हँसते है रोते है तो रोते है

(संगीत)

किस बात का रोना है किस बात पे रोते है
किस बात का रोना है किस बात पे रोते है
अजी किस बात का रोना है किस बात पे रोते है
कश्ती के मुहाफ़िज़ ही
कश्ती के मुहाफ़िज़ ही कश्ती को डुबोते है
कश्ती के मुहाफ़िज़ ही कश्ती को डुबोते है

किस बात का रोना है किस बात पे रोते है
कश्ती के मुहाफ़िज़ ही कश्ती को डुबोते है
कश्ती के मुहाफ़िज़ ही कश्ती को डुबोते है

(संगीत)

कुछ ऐसे दीवाने है सूरज को पकड़ते है
कुछ ऐसे दीवाने है सूरज को पकड़ते है
अजी कुछ ऐसे दीवाने है सूरज को पकड़ते है
कुछ लोग उम्र सारी
कुछ लोग उम्र सारी अँधेरा ही ढोते है
कुछ लोग उम्र सारी अँधेरा ही ढोते है

कुछ ऐसे दीवाने है सूरज को पकड़ते है
कुछ लोग उम्र सारी अँधेरा ही ढोते है
कुछ लोग उम्र सारी अँधेरा ही ढोते है

(संगीत)

जब ठेस लगी दिल पर तो राज खुल हम पर
जब ठेस लगी दिल पर तो राज खुल हम पर
जी जब ठेस लगी दिल पर तो राज खुल हम पर
वो बात नहीं करते
वो बात नहीं करते नस्तर से चुभोते है
वो बात नहीं करते नस्तर से चुभोते है

जब ठेस लगी दिल पर तो राज खुल हम पर
वो बात नहीं करते नस्तर से चुभोते है
वो बात नहीं करते नस्तर से चुभोते है

(संगीत)

मेरे दर्द के टुकड़े है ये शेर नहीं सागर
मेरे दर्द के टुकड़े है ये शेर नहीं सागर
अजी मेरे दर्द के टुकड़े है ये शेर नहीं सागर
हम साँस के धागो में
हम साँस के धागो में सपनो को पिरोते है
हम साँस के धागो में सपनो को पिरोते है

रातो को उठ उठ कर जिनके लिए रोते है
रातो को उठ उठ कर जिनके लिए रोते है
वो अपने शबिस्ता में आराम से सोते है
वो अपने शबिस्ता में आराम से सोते है

Lyrics in English Fonts

Raaton Ko Uth Uth Kar Jinke Liye Rote Hain
Raaton Ko Uth Uth Kar Jinke Liye Rote Hain
Aji Raaton Ko Uth Uth Kar Jinke Liye Rote Hain
Wo Aapni Makano Me
Wo Aapni Makano Me Aaram Se Sote Hain
Wo Aapni Makano Me Aaram Se Sote Hain

Raaton Ko Uth Uth Kar Jinke Liye Rote Hain
Wo Aapni Makanon Mein Aaram Se Sote Hain
Wo Aapni Makanon Mein Aaram Se Sote Hain

(Music)

Kuch Log Zamane Mein Aise Bhee Tou Hote Hain
Kuch Log Zamane Mein Aise Bhee Tou Hote Hain
Aji Kuch Log Zamane Mein Aise Bhee Tou Hote Hain
Mehfil Mein Tou Hashte Hain
Mehfil Mein Tou Hashte Hain Tanhaai Mein Rote Hain
Mehfil Mein Tou Hashte Hain Tanhaai Mein Rote Hain

Kuch Log Zamane Mein Aise Bhee Tou Hote Hain
Mehfil Mein Tou Hashte Hain Tanhaai Mein Rote Hain
Mehfil Mein Tou Hashte Hain Tanhaai Mein Rote Hain

(Music)

Deewanon Ki Duniya Ka Aalam Hi Nirala Hain
Deewanon Ki Duniya Ka Aalam Hi Nirala Hain
Aji Deewanon Ki Ka Aalam Hi Nirala Hain
Hashte Hain Tou Hashte Hain
Hashte Hain Tou Hashte Hain Rote Hain Tou Rote Hain
Hashte Hain Tou Hashte Hain Rote Hain Tou Rote Hain

Deewanon Ki Duniya Ka Aalam Hi Nirala Hain
Hashte Hain Tou Hashte Hain Rote Hain Tou Rote Hain
Hashte Hain Tou Hashte Hain Rote Hain Tou Rote Hain

(Music)

Kis Baat Ka Rona Hain Kis Baat Pe Rote Hain
Kis Baat Ka Rona Hain Kis Baat Pe Rote Hain
Aji Kis Baat Ka Rona Hain Kis Baat Pe Rote Hain
Kashti Ke Muhafeez Hi
Kashti Ke Muhafeez Hi Kashti Ko Dubote Hain
Kashti Ke Muhafeez Hi Kashti Ko Dubote Hainn

Kis Baat Ka Rona Hain Kis Baat Pe Rote Hain
Kashti Ke Muhafeez Hi Kashti Ko Dubote Hain
Kashti Ke Muhafeez Hi Kashti Ko Dubote Hain

(Music)

Kuch Aise Deewane Hain Suraj Ko Pakadte Hain
Kuch Aise Deewane Hain Suraj Ko Pakadte Hain
Aji Kuch Aise Deewane Hain Suraj Ko Pakadte Hain
Kuch Log Umr Sari
Kuch Log Umr Sari Andhera Hi Dhote Hain
Kuch Log Umr Sari Andhera Hi Dhote Hain

Kuch Aise Deewane Hain Suraj Ko Pakadte Hain
Kuch Log Umr Sari Andhera Hi Dhote Hain
Kuch Log Umr Sari Andhera Hi Dhote Hain

(Music)

Jab Thes Lagi Dil Par Tou Raaz Khula Ham Par
Jab Thes Lagi Dil Par Tou Raaz Khula Ham Par
Aji Jab Thes Lagi Dil Par Tou Raaz Khula Ham Par
Wo Baat Nahin Karte
Wo Baat Nahin Karte Nashtar Se Chubhote Hain
Wo Baat Nahin Karte Nashtar Se Chubhote Hain

Jab Thes Lagi Dil Par Tou Raaz Khula Ham Par
Wo Baat Nahin Karte Nashtar Se Chubhote Hain
Wo Baat Nahin Karte Nashtar Se Chubhote Hain

(Music)

Mere Dard Ke Tukde Hain Ye Sher Nahin Sagar
Mere Dard Ke Tukde Hain Ye Sher Nahin Sagar
Aji Mere Dard Ke Tukde Hain Ye Sher Nahin “Sagar
Ham Saans Ke Dhagon Mein
Ham Saans Ke Dhagon Mein Zakhmon Ko Peerote Hain
Ham Saans Ke Dhagon Mein Zakhmon Ko Peerote Hain

Raaton Ko Uth Uth Kar Jinke Liye Rote Hain
Raaton Ko Uth Uth Kar Jinke Liye Rote Hain
Wo Aapni Shabista Mein Aaram Se Sote Hain
Wo Aapni Shabista Mein Aaram Se Sote Hain


We hope you understood song Raaton Ko Uth Uth Kar lyrics in Hindi and English both. If you have any issue regarding the lyrics of Raato Ko Uth Uthkar song, please contact us. Thank you.

1 thought on “रातो को उठ उठ कर / Raaton Ko Uth Uth Kar Lyrics in Hindi”

Leave a Reply

Your email address will not be published.