मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे / Meri Jholi Chhoti Pad Gayi Re

Meri Jholi Chhoti Pad Gayi Re Lyrics in Hindi – ‘Meri Jholi Chhoti Pad Gayi Re’ is a Devi bhajan from album ‘Tere Bhagya Ke Chamkenge Taare‘. This song is sung by Narender Chanchal. Lyrics of Meri Jholi Choti Pad Gayi Re bhajan are written by Saral Kavi. Music is given by Surinder Kohli and label is T-Series.

Devi Bhajan – Meri Jholi Chhoti Pad Gai Re
Album – Tere Bhagya Ke Chamkenge Taare
Singer – Narendra Chanchal
Lyrics – Saral Kavi
Music – Surinder Kohli
Label – T-Series

Meri Jholi Chhoti Pad Gayi Re Lyrics in Hindi

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता
मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता

मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं
सोयी तकदीर जगाई
मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं
सोयी तकदीर जगाई

ये बात ना सुनी सुनाई
मैं खुद बीती बतलाता रे
इतना दिया मेरी माता
मैं खुद बीती बतलाता रे
इतना दिया मेरी माता

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता

(संगीत)

मान मिला सम्मान मिला
गुणवान मुझे संतान मिली
मान मिला सम्मान मिला
गुणवान मुझे संतान मिली

धन धान मिला, नित ध्यान मिला
माँ से ही मुझे पहचान मिली
धन धान मिला, नित ध्यान मिला
माँ से ही मुझे पहचान मिली

घरबार दिया मुझे माँ ने
बेशुमार दिया मुझे माँ ने
घरबार दिया मुझे माँ ने
बेशुमार दिया मुझे माँ ने

हर बार दिया मुझे माँ ने
जब जब मैं मागने जाता
मुझे इतना दिया मेरी माता
जब जब मैं मागने जाता
मुझे इतना दिया मेरी माता

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता

(संगीत)

मेरा रोग कटा मेरा कष्ट मिटा
हर संकट माँ ने दूर किया
मेरा रोग कटा मेरा कष्ट मिटा
हर संकट माँ ने दूर किया

भूले से जो कभी गुरुर किया
मेरे अभिमान को चूर किया
भूले से जो कभी गुरुर किया
मेरे अभिमान को चूर किया

मेरे अंग संग हुई सहाई
भटके को राह दिखाई
मेरे अंग संग हुई सहाई
भटके को राह दिखाई

क्या लीला माँ ने रचाई
मैं कुछ भी समझ ना पाता
इतना दिया मेरी माता
मैं कुछ भी समझ ना पाता रे
इतना दिया मेरी माता

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता

(संगीत)

उपकार करे भव पार करे
सपने सब के साकार करे
उपकार करे भव पार करे
सपने सब के साकार करे

ना देर करे माँ मेहर करे
भक्तो के सदा भंडार भरे
ना देर करे माँ मेहर करे
भक्तो के सदा भंडार भरे

महिमा निराली माँ की
दुनिया है सवाली माँ की
महिमा निराली माँ की
दुनिया है सवाली माँ की

जो लगन लगा ले माँ की
मुश्किल में नहीं घबराता
मुझे इतना दिया मेरी माता
मुश्किल में नहीं घबराता रे
मुझे इतना दिया मेरी माता

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता

(संगीत)

कर कोई यतन ऐ चंचल मन
तूँ होके मगन चल माँ के भवन
कर कोई यतन ऐ चंचल मन
तूँ होके मगन चल माँ के भवन

पा जाये नैयन पावन दर्शन
हो जाये सफल फिर ये जीवन
पा जाये नैयन पावन दर्शन
हो जाये सफल फिर ये जीवन

तू थाम ले माँ का दामन
ना चिंता रहे ना उलझन
तू थाम ले माँ का दामन
ना चिंता रहे ना उलझन

दिन रात मनन कर सुमिरन
जा कर माँ कहलाता
मुझे इतना दिया मेरी माता
जा कर माँ कहलाता
मुझे इतना दिया मेरी माता

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता
मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता

मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं
सोयी तकदीर जगाई
मेरी बिगड़ी माँ ने बनायीं
सोयी तकदीर जगाई

ये बात ना सुनी सुनाई
मैं खुद बीती बतलाता
इतना दिया मेरी माता
मैं खुद बीती बतलाता रे
इतना दिया मेरी माता

मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता
मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता
मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता
मेरी झोली छोटी पड़ गयी रे
इतना दिया मेरी माता

We hope you understood song Meri Jholi Chhoti Pad Gayi Re lyrics in Hindi. If you have any issue regarding the lyrics of Meri Jholi Chhoti Pad Gayi Re song, please contact us. Thank you.

Share on