खबर मेरे मरने की सुनते ही देखो / Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho

Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho Lyrics in Hindi – ‘Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho’ is a Hindi sad song sung by Attaullah Khan. Lyrics of Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho song are written by Ishrat Godhavri. Music label is Nupur Audio.

Song – Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho
Singer – Attaullah Khan
Lyrics – Ishrat Godharvi
Music Label – Nupur Audio

Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho Lyrics in Hindi

ज़हर मिले या अमृत धारा सारा सागर पी लेते है
जीवन पर क्या नुख्ता छीने हँसते गाते जी लेते है

हाँ यही गर्दिशे ज़माने की
सुर्खियाँ है मेरे फसाने की
फिर मिला दिल को एक गम ताज़ा
फिर जरूरत है मुस्कुराने की

खबर मेरे मरने की सुनते ही देखो
वो हाथों में मेहँदी रचाने लगे है
खबर मेरे मरने की सुनते ही देखो
वो हाथों में मेहँदी रचाने लगे है

सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
जनाज़ा मेरा सब उठाने लगे है

सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
जनाज़ा मेरा सब उठाने लगे है

(संगीत)

खताए भुला कर के गुजरे दिनों की
किया माफ़ मुझको मेरे दुश्मनों ने
खताए भुला कर के गुजरे दिनों की
किया माफ़ मुझको मेरे दुश्मनों ने
मेरे दुश्मनों ने

मगर वो ना आए मय्यत में मेरी
मगर वो ना आए मय्यत में मेरी
लो हम जबके दुनिया से जाने लगे है

सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
जनाज़ा मेरा सब उठाने लगे है

(संगीत)

सितम जीते जी उसने मुझ पर है ढाया
मगर बाद मरने के फिर ये सितम है
सितम जीते जी उसने मुझ पर है ढाया
मगर बाद मरने के फिर ये सितम है
फिर ये सितम है

लहद में भी मुझको कहा चैन यारों
लहद में भी मुझको कहा चैन यारों
यहाँ भी फ़रिश्ते सताने लगे है

सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
जनाज़ा मेरा सब उठाने लगे है

(संगीत)

अदावत के शोलों में सब रिश्ते नाते
खलूस-ओ-वफ़ा के हुए खाक देखो
अदावत के शोलों में सब रिश्ते नाते
खलूस-ओ-वफ़ा के हुए खाक देखो
हुए खाक देखो

मेरे हमसफ़र थे जो अच्छे दिनों में
मेरे हमसफ़र थे जो अच्छे दिनों में
वही मुझसे दामन बचाने लगे है

सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
जनाज़ा मेरा सब उठाने लगे है

(संगीत)

मुद्दत हुई तमाम ये अफसाना हो गया
देखो तो शहर अपना भी विराना हो गया
लौटा रहा है कैद-ए-आनास को तोड़ कर
आजाद हर क्रिप्त से दीवाना हो गया

उधर सुर्ख जोड़ा है उनके बदन पर
इधर तन को ढापा है मैंने कफ़न से
उधर सुर्ख जोड़ा है उनके बदन पर
इधर तन को ढापा है मैंने कफ़न से
मैंने कफ़न से

इधर लाश पर मेरी मातम है इशरत
इधर लाश पर मेरी मातम है इशरत
उधर बनके दुल्हन वो जाने लगे है

सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
जनाज़ा मेरा सब उठाने लगे है

खबर मेरे मरने की सुनते ही देखो
वो हाथों में मेहँदी रचाने लगे है
सफ़र आखरी है कोई उनसे कहदे
जनाज़ा मेरा सब उठाने लगे है

We hope you understood song Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho lyrics in Hindi and English both. If you have any issue regarding the lyrics of Khabar Mere Marne Ki Sunte Hi Dekho song, please contact us. Thank you.

Share on