हम तुम एक कमरे में बन्द हों / Hum Tum Ek Kamre Mein Lyrics in Hindi

Hum Tum Ek Kamre Mein Band Ho Lyrics in Hindi – ‘Hum Tum Ek Kamre Mein Band Ho’ is a evergreen hindi song from movie ‘Bobby’. This song is sung by Lata Mangeshkar and Shailendra Singh. Lyrics of this song are written by Anand Bakshi and music is given by 

Advertisement

Song – Hum Tum Ek Kamre Mein Band Ho
Movie – Bobby (1973)
Singers – Lata Mangeshkar and Shailendra Singh
Lyrics – Anand Bakshi
Music – Laxmikant Pyarelal
Label – Saregama

Hum Tum Ek Kamre Mein Band Ho Lyrics in Hindi

बाहर से कोई अन्दर न आ सके
अन्दर से कोई बाहर न जा सके
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो

Advertisement

हम तुम, एक कमरे में बन्द हों
और चाभी खो जाये
हम तुम, एक कमरे में बन्द हों
और चाभी खो जाये
तेरे नैनों के भूल भुलैय्या में
बॅबी खो जाये
हम तुम, एक कमरे में बन्द हों
और चाभी खो जाये

आगे हो घनघोर अन्धेरा
बाबा मुझे डर लगता है
पीछे कोई डाकू लुटेरा
हूँ.. क्यों डरा रहे हो

आगे हो घनघोर अन्धेरा
पीछे कोई डाकू लुटेरा
उपर भी जाना हो मुशकिल
नीचे भी आना हो मुशकिल
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो

हम तुम, कहीं को जा रहे हों
और रस्ता भूल जाये
ओ.. हो..
हम तुम, कहीं को जा रहे हों
और रस्ता भूल जाये
तेरी बईया के झूले में सइयां
बॅबी झूल जाये
हम तुम, एक कमरे में बन्द हों
और चाभी खो जाये

आ हा.. आ हा.. आ.. आ..

बस्ती से दूर, पर्वत के पीछे
मस्ती में चूर, घने पेड़ों के नीचे
अनदेखी अनजानी सी जगह हो
बस एक हम हो दूजी हवा हो
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो

Advertisement

हम तुम, एक जंगल से गुज़रे
और शेर आ जाये
हम तुम, एक जंगल से गुज़रे
और शेर आ जाये
शेर से मैं कहूँ तुमको छोड़ दे
मुझे खा जाये
हम तुम, एक कमरे में बन्द हों
और चाभी खो जाये

ऐसे क्यों खोये खोये हो
जागे हो कि सोये हुए हो

क्या होगा कल किसको खबर है
थोड़ा सा मेरे दिल में ये डर है
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो
सोचो कभी ऐसा हो तो क्या हो

हम तुम, यूँ ही हँस खेल रहे हों
और आँख भर आये
हम तुम, यूँ ही हँस खेल रहे हों
और आँख भर आये
तेरे सर की क़सम तेरे ग़म से
बॅबी मर जाये
हम तुम, एक कमरे में बन्द हों
और चाभी खो जाये
तेरे नैनों के भूल भुलैय्या में
बॅबी खो जाये

हम तुम, हम तुम
एक कमरे में बन्द हों
एक कमरे में बन्द हों
और चाभी खो जाये
और चाभी खो जाये
और चाभी खो जाये
और चाभी, खो जाये, खो जाये

Lyrics in English Fonts

Baahar se koi andar na aa sake
Andar se koi bahar na ja sake
Socho kabhi aisa ho to kya ho
Socho kabhi aisa ho to kya ho

Hum tum ek kamre mein band ho
Aur chabi kho jaaye
Hum tum ek kamre mein band ho
Aur chabi kho jaaye
Tere naino ke bhul bhulaiya me
Bobby kho jaaye
Hum tum ek kamre mein band ho
Aur chabi kho jaaye

Aage ho ghanghor andheraa
Babaa mujhe dar lagata hai
Pichhe koi daku lutera
Hun.. kyon dara rahe ho
Aage ho ghanghor andhera
Pichhe koi daku lutera
Upar bhi jana ho mushkil
Niche bhi aana ho mushkil
Socho kabhi aisa ho to kya ho
Socho kabhi aisa ho to kya ho
Hum tum, kahin ko ja rahe ho
Aur rastaa bhul jaaye

O..ho..
Hum tum kahin ko ja rahe ho
Aur rastaa bhul jaaye
Tere baaiyan ke jhule mein saaiyan
Bobby jhul jaaye
Hum tum ek kamre me band hon
Aur chabi kho jaaye

Advertisement

Aa ha..aa ha..aa..aa..
Basti se dur, paravat ke pichhe
Masti mein chur, ghane pedon ke niche
Andekhi anjaani si jagah ho
Bas ek hum ho duji hawa ho
Socho kabhi aisa ho to kya ho
Socho kabhi aisa ho to kya ho
Hum tum ek jangal se gujre
Aur sher aa jaaye
Hum tum ek jangal se gujre
Aur sher aa jaaye
Sher se main kahun tumko chod de
Mujhe khaa jaaye
Hum tum, ek kamre me band ho
Aur chabi kho jaaye

We hope you understood song Hum Tum Ek Kamre Mein Band Ho lyrics in hindi. If you have any issue regarding the lyrics of this then please contact us. Thank you.