आरती कुंज बिहारी की / Aarti Kunj Bihari Ki Lyrics in Hindi

यहां पढ़ें भगवान कृष्ण की पूरी आरती, “आरती कुंजबिहारी की,श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की” Read the complete aarti of Lord Krishna here, “Aarti of Kunjbihari, Sri Giridhar Krishna Murari”

Advertisement

कृष्ण जन्माष्टमी पर श्रद्धालु इस आरती को पढ़कर अपनी पूजा संपन्न करते है। Aarti Kunj Bihari Ki पढ़ने वालो की सभी मनकामनाएं श्री कृष्ण के आशीर्वाद से पूर्ण होती है। बोलो कृष्ण कन्हैया बाँके बिहारी की जय।

Krishna Aarti – Aarti Kunj Bihari Ki
Lyrics – Traditional

Advertisement

Aarti Kunj Bihari Ki in Hindi 

आरती कुंजबिहारी की,श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥
आरती कुंजबिहारी की,श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला 
श्रवण में कुण्डल झलकाला,नंद के आनंद नंदलाला

गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली
लतन में ठाढ़े बनमाली भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक

चंद्र सी झलक, ललित छवि श्यामा प्यारी की,
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की, आरती कुंजबिहारी की…॥

कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं।
गगन सों सुमन रासि बरसै, बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग ग्वालिन संग।

अतुल रति गोप कुमारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की…॥

Advertisement

जहां ते प्रकट भई गंगा, सकल मन हारिणि श्री गंगा।
स्मरन ते होत मोह भंगा, बसी शिव सीस।

जटा के बीच,हरै अघ कीच, चरन छवि श्रीबनवारी की
श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की…॥

चमकती उज्ज्वल तट रेनू, बज रही वृंदावन बेनू 
चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू 

हंसत मृदु मंद, चांदनी चंद, कटत भव फंद।
टेर सुन दीन दुखारी की

श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की ॥
॥ आरती कुंजबिहारी की…॥

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

आरती कुंजबिहारी की
श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की ॥

We hope you understood easily Aarti Kunj Bihari Ki lyrics in Hindi and English both. If you have any issue regarding the lyrics of Aarti Kunj Bihari Ki, please contact us. Thank you.

Advertisement